Featured

बस्‍तर प्रहरी में आपका स्‍वागत है.

रविवार, 2 अगस्त 2015

उद्यानिकी विभाग में पौधा रोपण में लाखो की गड़बड़ी...


कन्हनपुरी उद्यान नर्सरी में कागजो में पौधे वितरित हो गए कागजों में लाखों के पौधे हजम।पांच माह बाद भी पौधे पूर्णरुप से तैयार नही, मानकों की अनदेखी

कांकेर । कांकेर जिले के नरहरपुर विकासखण्ड ग्राम कन्हनपुरी में केन्द्र तथा राज्य सरकार जनहित में अनेक योजनाएं बना ग्रामीणों का आर्थिक मजबूती देना चाहती है लेकिन विभाग के भ्रष्ट अधिकारी कर्मचारियों की सोच आज भी दासता की सोच पर काम कर योजनाओं में फर्जी आंकड़ो की जादूगरी से विकास राशि का दुरुपयोग किया जा रहा है इसका सुध लेने वाला कोई नही है।
 ज्ञातव्य है कि नरहरपुर विकास खंड के कन्हनपुरी उद्यान रोपणी केंद्र में

मनरेगा के तहत शासन द्वारा 2014-2015 में 9 लाख रुपये के 5 प्रकार के 1 लाख पौधे तैयार करने का लक्ष्य दिया गया था। जिसमे मुनगा, कटहल, पपीता, अमरुद, नीबू प्रभारी उद्यान अधीक्षक को पौधे तैयार करने का लक्ष्य दिया गया था। पर अपने लक्ष्य को पाने में उक्त अधिकारी ने गंभीर लापरवाही बररते हुए मनमाने तरीके से पौध तैयार करते हुए राशि में हेराफेरी किया। जिसमें पौधे तैयार होने के बाद शासकीय भवनों और बीपीएल धारको को वितरित किया जाना था। जिसमे उद्यान अधिक्षक द्वरा 1 लाख पौधे कागजो में तैयार कर दिया गया । संवाददाता के द्वारा जब कन्हनपुरी उद्यान रोपणी केंद्र का अवलोकन करने पर उद्यान अधिक्षक ने बताया कि हम अभी तक दो हजार पैतालीस पौधे वितरीत किये गये है। बीपीएल परिवारो को अभी देना बांकि है। 

काली मिट्टी के जगह लाल मुरुम का उपयोग
जानकारी के अनुसार 1 लाख पौधों में जो जैविक खाद, रेती, काली मिट्टी का उपयोग किया जाना था उद्यान अधिक्षक के अपने करीबी धनेसरा निवासी हेमंत साहू के फर्म का उपयोग कर सारा सामाग्री उससे ही खरीद लिया। जिसमे से रेती भर भी सामान सप्लाई नहीं किया गया काली मिटटी बता कर कन्हनपुरी उद्यान केंद्र के नर्सरी से लाल मुरुम का उपयोग पौधों के लिए किया है और कागजो में बाहर से काली मिटटी लाना दर्शया गया यही नहीं जैविक खाद की भी सप्लाई नहीं की गई न पौधों में किसी प्रकार का बढ़नेे के लिए खाद डाला गया जिसके चलते पौधे मुरझा कर मर गए। 
जाँच पर होगी पर्दाफाश
जानकारी के अनुसार 1 लाख पौधे तैयार करने के लक्ष्य में मनरेगा के तहत वर्ष 2014-2015 में कन्हनपुरी उद्यान नर्सरी में काम किये मजूदरो को अभी तक पैसा नहीं मिलने की खबर है उद्यान अधिक्षक द्वारा मजदूरो के पैसे में भी हेरा-फेरी की आशंका से इंकार नही किया जा सकता। फर्जी मस्टरोल भर कर पैसों मे हेराफेरी होने की संभावना है अगर जाँच होती है तो सारे घोटाले का पर्दाफाश हो जाएगा। जानकारी के अनुसार कन्हनपुरी उद्यान नर्सरी में प्रभारी उद्यान अधिक्षक एम् एस ठाकुर 2011 से कन्हनपुरी केंद्र में प्रभारी अधिक्षक में पद्स्थ् है अगर निष्पक्ष जाँच होती है तो करोडो के पौधा वितरण का घोटला सामने आयेगा।
मामले की जांच कराई जायेगी जो भी दोषी होगा उन पर कार्रवाही की जावेगी।
पी.एन. तिवारी
सहायक संचालक उद्यानिकी विभाग कांकेर




केन्द्र तथा राज्य की सरकारें जनहित में अनेक योजनाएं बनाकर लागू करती हैं और भ्रष्ट अधिकारी फौरन उन योजनाओं में से अधिकाधिक रकम अपनी तिजोरी में डालने के पुण्यकार्य में जुट जाते हैं । सुनने में आता है कि फलाना अधिकारी आधी रकम खा गया, अमुक अफसर तीन चौथाई रकम खा गया, फलाना ९० प्रतिशत खा गया किन्तु कांकेर में ऐसा प्रकरण उजागर हुआ है जिसमें संबंधित अधिकारी समूची रकम ही खा गया| अपने चहेते ठेकेदार का फर्म उपयोग कर सारे सामानों को कागजो में सप्लाई भी कर सारे रकम निकल लिए गए| यह घोटाला कर दिखाया है नरहरपुर विकास खंड के कन्ह्न्पुरी शासकिय उद्यान  प्रभारी  उद्यान अधीक्षक ऍम एस ठाकुर ने जिन्होंने कागजो में 10 लाख खर्च कर 1 लाख पौधे कागजो में तैयार कर बाँट डाले है| 

@तामेश्वर