बस्‍तर प्रहरी में आपका स्‍वागत है.

शनिवार, 30 मई 2015

कांकेर में खिलाडियों से प्रशासन का खिलवाड़!


नामचिन व्यापारियों, नेतावो  के लिए खेल मैदान को बना डाला मैरिज गार्डन
विरोध के बाद भी प्रशासन बना मूक दर्शक
तामेश्वर सिन्हा 

कांकेर नरहरदेव मैदान में अनेक शादी.ब्याहए बैठक या अन्य प्रकार के निजी आयोजनों के होने के चलते विरोध में इन दिनों कांकेर नगर के खेल प्रेमी पिछले कई माह से अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे है ज्ञात हो कि कांकेर नगर में एक मात्र नरहरदेव स्कूल का मैदान ही शेष बचा है जहा नगर के खिलाडी अनेक अभ्यास ओर खेल गतिविधिया लगातार जारी रखते है इसके आलावा नगर में एक भी मैदान खेल गतिविधियों के लिए नहीं बचा है।
               जानकारी हो की खेल प्रेमियों के विरोध के पश्चात भी प्रशासन आँख कान मुदे बैठी हुई है सिर्फ इस लिए की मैदान में जो शादी.ब्याह हो रहा है वो शहर के नामचिन व्यापारी और नेता है जिनकी पहुच ऊपर तक है प्रशासन इन सबके सामने बौना साबित हो चूका है।
               हाल के महीनो में नरहरदेव स्कूल मैदान में आयोग में पूर्व अध्यक्ष और अभी वर्तमान में शराब ठेकेदार के यहाँ शादी.ब्याह का पार्टी मैदान में रखा गया है जिनकी पहुच ऊपर तक है
प्रशासन के सामने सत्ता तंत्र हावी
जानकारी हो की पिछले कई महीनो से कांकेर नगर के खेल प्रेमी लगतार मैदान के संरक्षण में अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे है। लेकिन सत्ता तंत्र के सामने प्रशासन बौना साबित हो रहा है। प्रशासन के इस रवेय्ये से यह साबित होता है की नगर के नामचिन व्यापारीएनेतावो के हो कर रह गई है।कांकेर जिला प्रशासन नगर के अधिकांश बुद्धिजीवी वर्ग इस विरोध में अपनी भागीदारी निभा रहे है लेकिन बड़े व्यापारी और नेतावो के सामने प्रशासन का डंडा नहीं चल रह है सवाल यह उठता है क्या कांकेर जिला प्रशासन का डंडा क्या सिर्फ गरीबो पर ही चलता हैघ् नियम कानून को ताक में रखकर काम करने वालो के ऊपर प्रशासन मेहरबान है।

पूर्व में स्कूलों के खेल मैदान में किसी भी प्रकार के शादी.ब्याह पर लगा था रोक
जानकारी के अनुसार पूर्व कलेक्टर श्रीमती अलरमेल मंगई डी ने नगर के खेल प्रेमियों के लगातार विरोध के पश्चात एक आदेश जारी कर समस्त शासकीय संस्थाओं के प्रमुखों को निर्देशित किया है कि संस्था का उपयोग किसी भी प्रकार के निजी आयोजन के लिए नहीं किया जाएगा।  शासकीय संस्थाओं में अथवा स्कूलों के खेल मैदान में किसी भी प्रकार के शादी.ब्याहए बैठक या अन्य प्रकार के निजी आयोजनों के लिए उपयोग में नहीं लाया जायेगा लेकिन वर्तमान कलेक्टर ने इस आदेश को रद्दी की डोकरी में डालते हुए नगर के नामचिन  नेता ठेकेदारों को शादी.ब्याहए के लिए खुली छुट देते हुए कांकेर नगर के खेल प्रेमियों के साथ खेलय खेला जा रहा है कभी जवाब आता है की नरहरदेव मैदान को प्राचार्य द्वारा शादी ब्याह के लिए आबंटित किया गया है और इसकी जानकारी प्रशासन को नहीं है दो पाटो के बिच कांकेर नगर के खेल प्रेमी अनेक खेल के अभ्यासों से वंचित हो रहे है।
प्रशासन आखिर दबाव में क्यों ?
गर में चर्चा है की नगर के नामचिन शराब ठेकेदार के यहाँ हाल ही में शादी.ब्याह का आयोजन है जिसको लेकर खेल प्रेमी लगातार विरोध जाता रहे है लेकिन प्रशासन चुप्पी साधे बैठी हुई है विभिगीय सूत्रों के अनुसार नामचिन ठेकेदार का मुख्यमंत्री आवास से प्रशासन के ऊपर दबाव है जिसके चलते प्रशासन कार्यवाही से कतरा रही है आखिर सत्ता के नामचिन ठेकेदारों और नेतावो के सामने प्रशासन बौना साबित हो गया है।

                            कांकेर नगर  में अब खेल के मैदान मैरिज गार्डन की तरह उपयोग में लाए जा रहे हैं। अब तक धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में इस्तेमाल होने वाले नरहरदेव मैदान  को अब नगर के नेतावो और नामचिन ठेकेदारों के शादियों के लिए भी अलॉट किया जाने लगा है।

एक तरफ कांकेर नगर के खिलाड़ियों को खेलने के लिए पर्याप्त खेल के मैदान नहीं हैंए वहीं दूसरी तरफ खेल के मैदान का इस तरह उपयोग जिम्मेदारों के ऊपर उंगलियां उठा रहा है। खेल के स्तर में सुधार लाने के बजाय प्रशासन की ओर से खेल के मैदान का मजाक उड़ाने की कोशिश की गई है।



बाक्सींग संघ हाकी संघए बाडीबिल्डिंग संघए फूटबाल संघए कराटे संघ के व शहर के खेल प्रेमी ग्राउंड में हो रही आयोजन को लेकर विरोध कर प्रदर्शन करते आ रही है । जिला प्रशासन के कानों में जू तक नहीं रेंग रही है खिलाड़ी आज भी शहर के मात्र खेल मैदान के लिए लड़ाई लड़ रहे है । जिला प्रशासन से मिलने पर एक दुसरे पर के उपर दोषी लगाते है कि इसकी जानकारी हमें नहीं है और दोषी आरोपी पर कार्यवाही की जायेगी । पर अभी तक ऐसा कोई ठोस कदम जिला प्रशासन ने नहीं लिया है । और जब तक खेल मैदान में अन्य आयोजनों पर प्रतिबंध नहीं लगाया जायेगा तब तक हम विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे
दुर्गेश अवस्थीए कराटे संघ

 क्योंकि मैदान से लेकर अन्य सभी व्यवस्थाएं खस्ता हालत में हैं। इसका मुख्य कारण है कि यहां आए दिन राजनीतिक कार्यक्रमए रैलियां शादियों की पार्टी आदि होती रहती है। बड़े बड़े पंडाल और अन्य व्यवस्थाओं के लिए पूरे मैदान में जगह जगह खुदाई कर दी जाती हैए जिससे मैदान खराब हो गया है। खिलाड़ियों की शिकायत है कि रैलियों के बाद मैदान ठीक नहीं कराया जाता है लगातर नगर के खेल प्रेमियों के विरोध के बाद भी कलेक्टर की चुप्पी समझ से परे है जल्द ही इस मामले के खेल प्रेमी क़ानूनी लड़ाई लड़ने का मुड बना रहे है
अजय शर्मा एडव्होकेट कांकेर


काकेर कलेक्टर का बयान जल्द अभी बात नहीं हुई है