Featured

बस्‍तर प्रहरी में आपका स्‍वागत है.

बुधवार, 5 सितंबर 2012

कांकेर नगरपालिका बना भ्रश्टाचार का खुला अभ्यारण,



उदघाटन से पहले नवनिर्मित कम्युनिटी हाल की फटी दिवाल, दिवालों से पानी का रिसाव हो रहा

नामचिन पालिका के कर्णधार तथा चहेते ठेकेदारों ने किया था कम्युनिटी हाल का निर्माण 

कांकेर नगरपालिका ने 39 लाख 25 हजार का फिर एक भ्रटाचार को अंजाम दिया-

0 जिला प्रषासन के नाक के नीचे खेला गया भ्रश्टाचार का खेल 
0 नगर पालिका के चहेते ठेकेदार ने किया था कम्युनिटी हाल का निर्माण
0 कमीशनखोरी के चलते पालिका के नामचिन कर्णधार भ्रष्ट कार्यो को अंजाम दे रहे 

नवनिर्मित कम्युनिटी हाल दिवालों से पानी का रिसाव हो रहा 

                मामला कुछ इस प्रकार है, नगर में बनी न्यू कम्युनिटी हाल जो अभी उदघाटन भी नही हुआ था उसमें दरारे, और पानी का रिसाव शुरू हो गया है। राज्य परिवर्तित योजना अतंर्गत वर्श 2007.08 में इस कार्य हेतू 39 लाख 25 हजार रू०राज्य षासन द्वारा कांकेर नगर पालिका को विकास राषि उपलब्ध कराई गई थी। सार्वजनिक कार्यक्रमों के लिए उपयोग में लाई जाने वाली इस सामुदायिक भवन में जिस तरह से उद्घाटन पूर्व ही दीवारों में दरारें पडऩे एंव पानी के रिसाव से जमे काई इस बात के पुख्ता सबूत है कि निर्माण एंजेसी तथा ठेकेदार द्वारा मिलीभगत कर गुणवत्ताहीन सामग्रियों का उपयोग भवन निर्माण में प्रयोग कर भ्रश्टाचार किया गया है जिसके कारण लाखों रूपयों की लागत से बने इस नवनिर्मित सामुदायिक भवन की दरारें उद्घाटन से पूर्व ही भ्रश्टाचार और कमीषनखोरी की कहानी को बयाँ कर रही है। 

नवनिर्मित कम्युनिटी हाल की फटी दिवाल, आदिवासी अंचल बस्तर संभाग, में स्थित उत्तर बस्तर  कांकेर  जिला नगर तथा नगरवासियों का विकास करने के लिए  कांकेर नगरपालिका में राज्य सरकारे तथा केन्द्र सरकारे एक ओर जंहा विषेश  उदारता दिखाती है, और अपने खजाने का मुंह को खोल कर नगरिय विकास के लिए करोडो रूपये देकर विकास कार्य करने का दावा करती है, लेकिन वंही दूसरी ओर जिले में बैठे भ्रष्ट अफसर अपनी जेब भरने के लिए नये-नये पैतरे अपना कर भ्रष्ट कार्यो को अंजाम देते चले आ रहे है, जिन पर ना तो शासन-प्रशासन की कोई लगाम है, कमीशनखोरी के चलते अफसर से लेकर क्लर्क तक करोडो की संम्पती बना डालते है, कंाकेर नगर पालिका जो अपने भ्रष्ट कार्यो के लिए हमेशा सुर्खियों में रहता है, और कंाकेर नगर की जनता को बेवकुफ बना कर छलावा करने में नम्बर वन है, कंाकेर पालिका के नामचिन कर्णधार अपने चहेते ठेकेदारों को खुश करने और कमीशनखोरी के चक्कर में, बार-बार उसी ठेकेदार को काम दिया करते है, जिसके चलते वह ठेकेदार नियमों को ताक में रखकर बेझिझक भ्रष्ट कार्यो को अंजाम देते रहते है। पालिका द्वारा कि गई इंडसइंड बैंक को लीज पर देने के मामले में बेईमानी की दाग अभी भरी भी नही थी, थमा भी नही था कि कंाकेर पालिका की एक और भ्रष्ट निर्माण कार्य सनसनी खेज मामला प्रकाश में आ गया, इस भ्रष्ट कार्य को पालिका के चहेते ठेकेदार तथा अफसरों ने दे डाली। 
ज्ञात हो कि कांकेर  नगर पालिका के चहेते ठेकेदार को यह काम मिला था जिसने भ्रष्ट कार्यो को अंजमा दिया है। चहेते ठेकेदार ने इससे पहले कई निर्माण कार्य किये है जिसमें कई मामले कोर्ट मे ंचल रहा है, नगर का चर्चित भ्रष्ट गौरव पथ का निर्माण भी इसी ठेकेदार ने किया था लेकिन कंाकेर पालिका के नामचिन कर्णधार बार-बार कमीशनखोरी के चक्कर में इसे ही काम दिया जाता है। कम्युनिटी हाल में दरार की बात भी पालिका कोर्ट में ले जाऐ। कांकेर नगर पालिका क्षेत्र अतंर्गत महात्मा गांधी वार्ड में लाखों रूपयों की लागत से बने इस कम्युनिटि हॉल का अभी किसी विषिश्ट अतिथि के करकमलों से उद्घाटन भी नही हो पाया है कि नवनिर्मित सामुदायिक भवन भ्रश्टाचार और कमीषनखोरी की भेंट चढ़ चुका है। 
भ्रश्टाचार का खेल जहां खेला गया है वहां से जिला कार्यालय की दुरी महज 30 मीटर तथा जिला पुलिस अधिक्षक कार्यालय लगा हुआ है लेकिन जिला प्रषासन को इस बात की भनक तक नही् और पालिका के नामचिन कर्णधार और ठेकेदार मिलकरी शासन के पैसे का बंदबाद कर रहे है। इस बात से सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि भवन निर्माण में भ्रश्टाचार करने वाले ठेकेदार एंव पालिका के लोगों के हौसले कितने बुंलद है। नवनिर्मित कम्युनिटी हाल के गुणवत्ता हीन निर्माण के खेल में विपक्ष की भूमिका भी संदिग्ध है, पालिका के अहम बैठक मे पालिका के विपक्षी नेता मौन रहते है, कितने पैसे इनके घरों में पहुंचते है ये तो वंही लोग बताऐंगे। 
         लाखों रूपये के नवनिर्मित कम्युनिटी हाल में दारारे तथा दिवाल फटने की जानकारी सीएमओं केडी चन्द्रकार का कहना था कि कम्युनिटिी न हाल में आई दरारों की जांच की दरारों की मरम्मत किया जाऐगा। 

कांकेरपालिका अध्यक्ष पवकौषिक ने बताया कि मुझे इस बात की जानकारी नही है। 
 यदि सामुदायिक भवन में इस प्रकार षिकायत है तो उक्त ठेकेदार के विरूद कार्यवाही की जावेगी

ठेेकेदार ध्यानचंद केवलरमानी ने इस भ्रश्टाचार में मामले कहा कि नवनिर्मित भवन की किसी दीवार में कोई दरारें नही है मै जब साईट पर आऊँगा तब मुझसे मिलना