Featured

बस्‍तर प्रहरी में आपका स्‍वागत है.

मंगलवार, 4 सितंबर 2012

रावघाट परियोजना बंद कराने के लिए सब कुछ दाव पर लगाने को तैयार आंदोलनकारी, तथा सात दिनों से आंदोलन पर डडे हुए..



शासन-प्रशासन के पास किसी प्रकार को जवाब नही आंदोलन को लेकर, 
आंदोलनकारियों का कहना है कि जंगल, जमीन से बेदखल करने की साजिश रावघाट परियोजना

  रावघाट परियोजना के चलते बीएसपी द्वारा क्षेत्रवासियों के सौतेले व्यवहार, तथा रोजगार उपलब्ध ना कराने को लेकर अंतागढ़ वासी आंदोलन पर डडे हुए है, रावघाट परियोजना में अंतागढ़वासी की अनदेखी के खिलाफ जारी आंदोलन के सातवें दिन लोंगों मे अभुतपूर्ण उत्साह देखने को मिला, आंदोलनकारियों का कहना था बीएसपी प्रबंधन द्वारा जंगल, जमीन से बेदखल करने की साजिश है रावघाट परियोजना, आंदोलनकारियों ने रावघाट परियोजना का तत्काल बंद करने को कंहा गया है, तथा आज सात दिनों से आंदोलन पर डडे हुए है, लेकिन शासन तथा प्रशासन के कान में जूं तक नही रेगी है, अंतागढ़ तथा आस-पास के ग्राम वासी अपनी दुखी पीड़ा लेकर धरने पर बैठेे हुए है, आस-पास के सभी गांव वाले एक-एक दिन धरने पर बैठेगे, इस आंदोलन में मिल रहे जनसमर्थन से लोगों में काफी उत्साह है, धरना प्रदर्शन में बैठे वक्ताओ ने कंहा की रावघाट परियोजना में खनन का कार्य भले ही किसी कंपनी को दें किन्तु बीएसपी की जिम्मेदारी है कि रावघाट परियोजना में खनन का कार्य भले ही किसी कंपनी को दे किन्तु बीएसपी की जिम्मेदारी है कि रावघाट परियोजना में यंहा के स्थानिय लोगों को इस परियोजना में सम्मान जनक रोजगार उपलब्ध कराये, लेकिन बीएसपी प्रबंधन द्वारा अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है, धरने पर लोगों का कहना था कि रावघाट परियोजना को बंद करने में हम सब कुछ अपना दाव पे लगा देगें, क्योकि शासन की वनवासियों को जंगल, जमीन से बेदखल करने की यह साजिश है।