Featured

बस्‍तर प्रहरी में आपका स्‍वागत है.

रविवार, 24 जून 2012

चार लाख, मिट्टी की सड़क पानी में बह गया..।


निर्माण एजेंसी ग्राम पंचायत रिसेवाड़ा द्वारा गलत सड़क का निर्माण किया गया ...ग्रामिणो को नही मिला चार लाख का लाभ-फुंक दिये पंचायत द्वारा चार लाख रूपये- पेंड़ पौथे उग रहे सडक में..। 

 


 रोजगार गांरटी के योजना के तहत ग्राम पंचायत रिसेवाड़ा में गुहनपारा से आंखीहर्रा सरहद तक चार लाख सनतानबे हजार में बनी सड़क *ना घर का है और ना घाट का* चार लाख की सड़क में इतने-बडे बडे गढ्ढे है की उसमें अगर कोई चलेगा तो गिर  जाऐगा। चार लाख खर्च कर बनाऐ गये सड़क मात्र कगजों में खाना पुर्ती की गई है, निर्माण एजेंसी द्वारा सरकारी खजाने के पैसे का कैसे दुरूपयोग किया जाए ये सोच कर सड़क में मिट्टी को कैसे भी डाल कर चार लाख का सड़क निर्माण कर दिया गया है, जो पहले ही बारिश में अपना जवाब दे दी और २००९ में ही सड़क बह गया, और अब वंहा मात्र एक ऊबड़- खाबड़ जैसी जीन बाकि है। और निर्माण एजेंसी द्वारा मरम्मत के नाम पर पैसा निकालने की तैयारी चल रही है।
चार लाख का रोजगार गांरटी योजना के तहत बनाई गई सड़क चार साल भी ग्रामिणों को लाभ नही मिल पाया, तथा ग्राम रिसेवाड़ा का चार लाख का सड़क पैदल चलने के लायक नही है, ग्राम पंचायत एजेंसी द्वारा इसे सन २००९ में निर्माण किया गया था।  लेकिन आज चार साल पुरे होने को जा रहे जब से बना है  इस मिट्टी नूमा सड़क का लाभ ग्रामीण शुरू से ही लाभ नही ले पाये। सड़क बनने के बाद से ही सड़क पहली बारिश मेें बह गया था। और चार लाख रूपये का सड़क पानी में बह गया आज सड़क की स्थिति ऐसी है कि इसमें पौधे उग आये है, निर्माण एजेंसी द्वारा सड़क निर्माण के नाम पर मिट्टी को डालकर सड़क निर्माण कराया गया, जो पहली ही बारीश में बह गया और जंगह-जगह गढ्ढे हो गये है। जिसका लाभ ग्रामीणों को नही मिल रहा है, जंहा पर पैदल चलने में आम लोग गिर जाऐंगे। चार लाख रूपयें का निर्माण एजेंसी द्वारा बंदरबांट कर लिया गया, और इस बंदरबाट में निर्माण एजेंसी ही नही बल्कि उच्चअधिकरी भी इसमें शामिल है, जनप्रतिनिधियों को भी ये सउ़क दिखाई नही देती है, उनको क्या करना है कभी आते तो नही है इधर का रूख लेने। चार लाख के सड़क को निर्माण एजेंसी द्वारा पानी में बहा दिया गया।